SEARCH IN RAILWAY

Indian Railway Search

रेलवे शुरू कर सकता है 100 नई ट्रेनें


रेलवे शुरू कर सकता है 100 नई ट्रेनें

रेलवे 2013-14 के बजट में विभिन्न राज्यों की मांग को पूरा करने के लिए एसी डबल डेकर समेत करीब 100 ट्रेनें शुरू कर सकता है। इसके अलावा कुछ ट्रेनों की सेवाओं का विस्तार भी किया जा सकता है। जहां तक इंजन, रेल डिब्बे तथा वैगन विनिर्माण कार्यक्रम का सवाल है, बजट में 600 एलएचबी डिब्बों समेत 4200 नए डिब्बों के विनिर्माण की घोषणा की जा सकती है। साथ ही 20 एलएनजी इंजन समेत 670 नए इंजन बनाए जाने की घोषणा के साथ करीब 16,000 नए वैगन के विनिर्माण का एलान किया जा सकता है। रेल मंत्रालय के सूत्रों ने बताया, 'इस साल रेल बजट में यात्रियों को अधिक सुविधाएं उपलब्ध कराने पर ध्यान दिया जा सकता है। ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं जिससे पूर्वोत्तर समेत सभी क्षेत्रों की मांग को पूरा किया जाए क्योंकि विभिन्न राज्यों से नए ट्रेनों के लिए अनुरोध किए गए हैं।' सूत्रों ने कहा, 'बजट में करीब 100 नई ट्रेनों की घोषणा की जाएगी।' लोगों की मांग को देखते हुए कुछ एक्सप्रेस ट्रेनों का विस्तार तथा कुछ लोकप्रिय ट्रेनों के फेरे भी बढ़ाए जा सकते हैं। पिछले साल रेलवे ने 175 ट्रेनों को शुरू किए जाने की घोषणा की थी। रेल मंत्री पवन कुमार बंसल 26 फरवरी को पेश किए जाने वाले अपने पहले रेल बजट में ट्रेनों में साफ-सफाई, अग्निशमन व्यवस्था को दुरूस्त करने तथा सभी यात्रियों के लिए बेहतर सुविधाएं जैसी चीजों पर जोर दे सकते हैं। बंसल नेत्रहीन यात्रियों के लिए डिब्बों के अंदर ब्रेल स्टीकर उपलब्ध कराए जाने के प्रस्ताव को भी बजट में हरी झंडी दे सकते हैं। कुल 543 ट्रेनों में शौचालय तथा डिब्बों के साफ-सफाई के लिए 'ऑन बोर्ड हाउस कीपिंग' योजना शुरू की जा सकती है। इसके तहत चलती ट्रेन में साफ-सफाई की व्यवस्था होगी। रेलवे ने 10 मशीनयुक्त लांड्री स्थापित करने का प्रस्ताव किया है ताकि ज्यादा साफ-सुथरा चादर, कंबल और अन्य सामानों की आपूर्ति की जा सके। एसी डिब्बों तथा पैंट्री कारों में अग्निशमन के लिए विशेष उपाय किए जा सकते हैं क्योंकि आग लगने की आशंका सबसे ज्यादा इन्हीं जगहों पर होती है। नकदी संकट से जूझ रहे रेलवे को सामान्य बजटीय समर्थन के रूप में अगले वित्त वर्ष के लिए 28,000 करोड़ रुपये मिल सकते हैं। जबकि उसकी मांग 38,000 करोड़ रुपये की है। पिछले साल उसे बजटीय समर्थन के रूप में 24,000 करोड़ रुपये मिले थे।
Maintaining cleanliness and hygiene in trains and stations, providing quality linen, upgradation of fire-fighting arrangements and new facilities for differently-abled persons are some of the measures likely to be announced by railway minister Pawan Kumar Bansal in his budget speech
The Indian Railways is drawn up plans to introduce about 100 new trains, including AC double deckers, new passenger services and extension of services to cater to the demands of various states in the Rail Budget 2013-14.

As far as rolling stock programme is concerned, the announcement will be made for manufacturing of 4,200 new coaches including 600 LHB coaches in the Rail Budget.

While provision for manufacturing of 670 new locomotives including 20 LNG locos will be made, the budget will also account for manufacturing of about 16,000 new wagons.

“The focus of the Rail Budget this year is on providing more amenities to passengers. Attempts have been made to cater to the demands of all regions including Northeast as there were representations for new trains from various states,” sources in the railway ministry said.

While services of some express trains have been extended, frequencies of certain popular trains have also been increased keeping the demand of people's representatives in mind.

“About 100 new trains will be announced in the budget,” the sources said.

Last year, the Railways had announced launching of 175 trains including passenger services.

Maintaining cleanliness and hygiene in trains and stations, providing quality linen, upgradation of fire-fighting arrangements and new facilities for differently-abled persons are some of the measures likely to be announced by railway minister Pawan Kumar Bansal in his maiden budget speech on 26th February.

The proposal to provide Braille stickers inside coaches for assisting visually impaired passengers are among the measures likely to be announced by Mr Bansal